पितृ दोष निवारण शांति के उपाय और पूजा त्र्यंबकेश्वर, नासिक

by Vidyanand Guruji
0 comment
पितृ दोष निवारण शांति के उपाय और पूजा त्र्यंबकेश्वर, नासिक

पितृ दोष के उपाय और टोटके

पितृ दोष निवारण शांति : पितृ दोष भारतीय ज्योतिषी के अनुसार सबसे महत्वपूर्ण दोषों में से एक है। हालांकि, यह आमतौर पर पूर्वजों के अभिशाप के कारण समझा जाता है। लेकिन, यह तथ्य भ्रमित करने वाला है। जैसा कि कहा भी जाता है कि अधूरा ज्ञान समस्या का कारण होता है | इसलिए ‘पितृ दोष’ के बारे में भी विस्तृत जानकारी होनी आवश्यक है।

क्या है पितृ दोष ?

पितृदोष हमारे पूर्वजों का अभिशाप नहीं है। यह पूर्वजों के प्रति हमारा कर्म ऋण है। इस कर्म ऋण का भुगतान पितृ दोष युक्त कुंडली  वाले जातक द्वारा किया जाना चाहिए। यदि हम आसान शब्दों में कहें  तो पितृ दोष किसी व्यक्ति की कुंडली में तब उजागर होता है जब उसके पूर्वजों ने अपने जीवन में कोई दोष, अपराध या पाप किया हो। उन्ही अपराध या दोष या पाप के बदले में, जातक जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में उन ऋणों के लिए तय किए गए विभिन्न दंडों का अनुभव करके उस कर्म ऋण का भुगतान करता है। कर्म ऋण समाप्त होने तक व्यक्ति को यह या तो प्रायश्चित  करके या फिर अच्छे कार्यों को करके निपटाना होता है ।

To Read About Pitra Dosh Puja in English. Click Here.

पितृ दोष से जीवन में के समस्याएं उत्पन्न होती है जिनके कारणों को समझना बहुत ही मुश्किल काम है। जातक अक्सर खुद से यह पूछते रहते है कि आखिर मुझे ही ऐसे समस्या जीवन में क्यों आ रही है | इसका एक मुख्य कारण यह भी हो सकता है कि सभी प्रकार के उपचारों के बावजूद जातक इस दोष से छुटकारा पाने में बड़ी  मुश्किल का सामना करता है |

पितृ दोष निवारण मंत्र

  • जातक श्रापोद्धार उपाय कर सकते है |
  • पितृ दोष निवारण मंत्र जाप देवी किलकास्तोत्रम का है।
  • दुर्गासप्तशती अध्याय किलकम से देवी किलकास्तोत्रम का जाप करें|
    उसके बाद आप आपको माँ भगवती को “ट्वाद्यमदृव्यम् भवगतिति शुभमेवस्मरपे”कहते हुए कोई भी धनराशि दें ,जिसका अर्थ यह है कि हे माँ भगवती मैं आपको धन भेंट कर रहा हूँ ।
  • यह किलक्काश्रोपधारा एक घरेलू उपचार है और यह पितृदोष और उसके सभी अभिशापों को समाप्त कर सकता है।
  • आप इस मंत्र-जप को नवरात्रि पूजा के दौरान भी कर सकते हैं।

पितृ दोष निवारण शांति के उपाय

नीचे कुछ उपाय दिए गए हैं जिनके द्वारा भी आप पितृ दोष से छुटकारा पा सकते हैं :

  • त्रिपंडी श्राद्ध का आयोजन करें।
  • इस श्राद्ध को पूर्वजों की पुण्य तिथि पर आयोजित करें।
  • बरगद के पेड़ पर पानी चढ़ाएं ।
  • इसके अलावा, श्राद्ध में या पूर्वजों की पुण्य तिथि पर 15 दिनों के लिए पितरों को पानी चढ़ाएं।
  • प्रत्येक अमावस्या पर ब्राह्मणों को भोजन दें ।
  • विभिन्न मंदिरों या धार्मिक स्थानों में प्रत्येक अमावस्या और पूर्णिमा पर खाद्य सामग्री भेंट करें।

पितृ दोष शांति के उपाय और टोटके

इस आधुनिक दुनिया में युवा पीढ़ी विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर अधिक विश्वास करते हैं। वे पारंपरिक मान्यताओं और रिवाजों से चिढ़ते हैं। हालांकि विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निर्भर होने में कुछ भी गलत नहीं है, लेकिन फिर भी जीवन में कुछ घटनाएं होती हैं, जिनके लिए विज्ञान या प्रौद्योगिकी के पास कोई जवाब नहीं होता है।

पितृदोष के नीचे कुछ सरल उपाय बताये गए हैं जिनकी अनुपालना करने से कुंडली में पितृ दोष के कुप्रभाव को कम किया जा सकता है :

  • बरगद का एक पेड़ लगाएं और उसे नित्यप्रति पानी चढ़ाएं ।
  • पक्षियों और जानवरों को भोजन दें।
  • उपवास रखें और श्रावण में सभी सोमवारों को शिव पूजा करें।
  • प्रत्येक अमावस्या पर ब्राह्मणों या जरूरतमंद लोगों को भोजन दें।
  • ग्रहों के ग्रहों की स्थिति के अनुसार पितृदोष निवारण पूजा करें।
  • त्रिपिंडी श्राद्ध का आयोजन करें।
  • भगवान विष्णु की पूजा करें।
  • इसके अलावा, यदि किसी जातक की कुंडली में पितृदोष हैं तो जातक रूबी रत्न धारण कर सकते हैं। यह रत्न सूर्य को प्रभावित कर सकता है और पितृदोष के द्वारा होने वाले अशुभ ग्रहों के दुष्प्रभाव को दूर कर सकता है। इस रत्न को अनामिका उंगली में रविवार को सोने या तांबे की अंगूठी में जड़कर पहनें।

त्र्यंबकेश्वर, नासिक में पितृदोष की शांति पूजा हेतु सर्वश्रेष्ठ पंडित

त्र्यंबकेश्वर में पितृ दोष पूजा करने के लिए लोग हवाई मार्ग से, ट्रेन से या सड़क मार्ग से इस स्थान पर पहुँच  सकते हैं। इस जगह तक पहुँचने का सबसे अच्छा तरीका सड़क मार्ग ही है। इस जगह के लिए बसों की आवाजाही अच्छी है।  यदि आप किसी भरोसेमंद और अच्छे पंडितजी की तलाश कर रहे हैं, जो आपकी कुंडली का अध्ययन कर सकते हैं और सही पितृ दोष पूजा मुहूर्त चुनने में और इसकी तैयारी करने में आपकी मदद कर सकते हैं , तो आप 7030000788 पर विद्यानंद शास्त्री गुरुजी से संपर्क करके एक अच्छी और फलदायी पूजा सम्पन्न कर सकते हैं।

You may also like

Leave a Comment